गर्भ में लड़के की हलचल कब होती है और पहली तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण क्या है

गर्भ में लड़के की हलचल कब होती है और पहली तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण क्या है ?

किसी भी महिला का पहली बार माँ बनने का एहसास बहुत ही खास होता है इस दौरान ना केवल आप शारीरिक बदलाव महसूस करती हैं बल्कि महिलाओं को भावनात्मक और मानसिक दिक्कतों का भी सामना करना पडता है ।

एक नई जिंदगी को दुनिया में लाने की शक्ति ईश्वर ने सिर्फ महिलाओं को ही दी है क्योकि माना जाता है की पुरूषों की तुलना में महिलाएं ज्यादा सहनशील होती हैं ।

लेकिन जब भी दो लोग पहली बार माँ – बाँप बनते हैं तो उनके मन में सवाल आता है की उनके लड़का होगा या लड़की, आज कल ये सवाल ज्यादातर लोगो के मन में जिज्ञासा के कारण आता है

क्योकि किसी को बेबी गर्ल की चाहत होती है तो कोई अपनी पहली औलाद लड़का चहाता है, खैर इससे भी नकारा नही जा सकता की कुछ लोगो कों संतान के रूप में सिर्फ लड़का चाहिये ।

अब इससे पीछे कई कारण होते है जैसे:- किसी को लड़का इसलिए चाहिये की वो उनके बुढ़ापे का सहारा बन सके, उन्हे वेबी बॉय ( Baby boy ) क्यूट लगता है या फिर कुछ लोग रूढिवादी सोच में जकडे होने को कारण इसलिए भी लडके की डिमांड करते है की उनका वंश या परिवार आगे बढ़े ।

खैर अगर आप इस उद्देश्य से इस लेख को पढ़ रहे हैं तो हम आपको बता दें की भ्रूण में पल रहे बच्चे के लिंग की जाँच करवाना भारतीय संविधान के अनुसार गैरकानूनी है और इसके लिए आपको अच्छी – खासी सजा भी हो सकती है ।

इसके अलावा भ्रूण में पल रहे बच्चे की जाँच के साथ उसकी हत्या करना ना केवल गैरकानूनी है बल्कि इंसानियत की भी हत्या है जिसके लिए भारत का संविधान भी कठेरत्म सजा देता है ।

इसलिए यहाँ हम पहले ही साफ कर देना चहाते हैं की अगर आप यहाँ दी गई जानकारी के आधार पर किसी भी गलत काम को अंजाम देते हैं तो आप खुदरे किये के स्वंय जिम्मेदार होगे ।

यहाँ दी गई जानकारी का उद्देश्य आपके ज्ञान में वृध्दि करना है और आपको ये बताना है की लोग गर्भ में लड़की है या लड़का कैसे पता करते हैं ?

ये तरीके 100% वैज्ञानिक नही है बल्कि गर्भ में लड़की या लड़के की पहचान का प्रयास करते हैं । इससे आप पुरी तरह पता नही कर सकते की गर्भ में लड़का है या लड़की ? लेकिन आपको एक अंदाजा जरूर हो जाएगा ।

तो दोस्तों इस लेख के माध्यम से हम आपको कुछ उपाय और लक्षणों के आधार पर बताएगे की Garb me ladke ke lakshan kya hai ? और बेटा बेटी होने के लक्षण क्या है ?

अगर कुछ अंगो को छोड दिया जाए तो लडकी और लडको में कोई अंतर नही होता, ऊपरवाले ने जब कोई भेदभाव नही किया तो आपको भी नही करना चाहिये ।

तो दोस्तों मुझे उम्मीद है की आप मेरी बात समझ गये होगे । लेकिन अगर आप केवल जिज्ञासा से व्याकुल होकर ये जानना चहाते हैं की पहली तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण या गर्भ में लड़के की हलचल किस प्रकार होती है या फिर कुल मिला कल ये कैसे पता करें की गर्भ में बेबी बाय है या बेबी गर्ल तो इस लेख में आपको पुरी जानकारी मिल जाएगी ।

So दोस्तों इस लेख को पढ़ने के बाद आपकी बहुत बडी कन्फ्यूजन दूर हो जाएगी और आप लगभग Sure हो जाएगी की आपके गर्भ में लड़का है या लड़की ।

तो बिना किसी बकवास के पोस्ट शुरू करते हैं और जानते हैं गर्भावस्था के 9 माह में बच्चा लड़का के लक्षण –

गर्भ में लड़के की हलचल – Garbh me ladke ki halchal

गर्भ में लड़के की हलचल
गर्भ में लड़के की हलचल

वर्तमान में कई ऐसी टेक्नोलॉजी मौजूद है जिसके द्वारा आप ये पता कर सकते हैं की आपके गर्भ में लड़का है या लडकी । लेकिन इस तरह बच्चे की जाँच करना अपराध है ।

इसलिए आप बच्चे का लिंग यानी gender का पता बेवी की हलचल और उसकी मूवमेंट से कर सकते हैं ।

गाँव एंव देहात तथा ग्रामीण इलाकों में कुछ तजुरबेदार और बुजुर्ग महिलाए गर्भ में बच्चे की हलचल के अनुसार उनका लिंग बता देती है ।

खैर इस बात की कोई वैज्ञानिक सत्यता नही है मगर अधिकतर मामलों में ये तरीका सटीक बैठता है । अगर आप अपने होने वाले बेवी के लिए शॉपिंग वगहरा करना चहाते हैॆ लेकिन आप कंफ्यूज है की आपका होने वाला बच्चा लड़का होगा या लड़की तो यह तरीका आपके लिए मददगार हो सकता है ।

तो दोस्तों पोस्ट को शुरू करते हैं और जानते हैं की कैसे पता करें की गर्भ में पुत्र है या पुत्री ?

गर्भ में लड़के की हलचल – movement of baby boy in pregnancy In hindi

यह एक पुरानी मान्यता है जिसमें आप बच्चे की गर्भ में हचलच करने के समय के आधार पर उसका जेंडर पता कर सकते है । ये शीशु का सेक्स पता करने का पुराना उपाय है जिससे आप पेट में पल रहे बच्चे के बारे में पता कर सके की आपको पुत्र होगा या पुत्री

तो इस मन्यता के अनुसार गर्भ में लड़को की तुलना में लड़कीयां ज्यादा जल्दी हलचल शुरू कर देती हैं जहाँ लडके पेट में 5 महीने में मूवमेंट शुरू करते हैं वही लड़कियां 4 महीने में गर्भ में हरकत करना शुरू कर देती हैं ।

गर्भ में बच्चे की हलचल किस प्रकार होती है ?

गर्भ में बच्चा कई प्रकार की शारीरिक मूवमेंट यानी हलचल करता है, प्रेग्नेंसी के 17 वे हफ्ते में ये शुरू हो जाती है । बच्चा पेट में लात मारता है, एक साइड से दूसरी तरफ जाने की कोशिश करता, अपने हाथों से चेहरे को छूने की कोशिश करता है तो माँ को गर्भ में हलचल महसूस होती है

लेकिन 35 वे हफ्ते के बाद आप महसूस करेगी की आपके शीशू की मूवमेंट बंद हो गई है क्योकि इस दौरान बेवी का शरीर काफी बढ़ जाता है और अब उसको गर्भ में हलचल करने लायक जगह नही मिलती

garbh में लड़की की हलचल

जैसा की हमने पहले कहा लड़के की तुलना में लड़की गर्भ में जल्दी हरकत शुरू कर देती है यदि आपके गर्भ में चोथे महीने से ही मूवमेंट स्टार्ट हो जाए तो इससे गर्भ में लड़की होने का संकेत मिलता है ।

इन्हे भी पढ़े :- 

1. पीरियड के कितने दिन बाद संबंध बनाना चाहिए पुरी और दिलचस्प जानकारी सरल हिंदी में

2. विस्तार से जानिये प्रेगनेंसी में पेट कब निकलता है और पेट कितना बडा एंव चौड़ा होना चाहिये

पहली तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण :- Pehli timahi me ladka hone ke lakshan

पहली तिमाही यानी first trimester में लगभग – लगभग हर महिला के लक्षण समान होते हैं । कुछ एक आध मामलों में लक्षणों में परिवर्तन आ सकता है लेकिन अधिकतर मामलों में काफी समानता होती है

इनमें से कुछ ऐसे संकेत या लक्षण होते हैं जिनसे आप पता कर सकें की आपके गर्भ में लड़का पल रहा है या लड़की ? तो जानते हैं की पहली तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण क्या है ?

गर्भ में पल रहे बच्चे का लिंग कैसे पता करें या गर्भ में कैसे पता करें की शिशु लड़का है या लड़की ।

So Friends यहाँ हम आपको बताते हैं की पहली तिमाही में एक पुत्र होने के क्या – क्या लक्षण होते हैं

1. हाथ पैरों का ठंडे रहना :- पुरानी मान्यता है की यदि किसी महिला के गर्भ में लड़का है तो पहली तिमाही में उसके हाथ और पैर ठंडे होने लगते हैं सर्दी की बात अलग रही लेकिन अगर गर्मी में भी हाथ पैर ठंडे पड जाए तो ये गर्भ में लड़का होने के लक्षण हैं

2. पेशाब के रंग में परिवर्तन : – कहा जाता है की गर्भ में पल रहे बच्चे का माँ के पुरे शरीर पर प्रभाप पडता है जिसमें खाने की पसंद से लेकर कई प्रकार के शारीरिक क्रियाकलापों में भी परिवर्तन दिखाइ पडता है इसलिए कहा जाता है की पेशाव ( urine ) के कलर से भी हम पता कर सकते हैं की गर्भ में लड़का है या लड़की ।

यदि किसी महिला का पहले trimester में पेशाब का रंग गहरा पीला है तो ये गर्भ में लड़का होने का संकेत करता है ।

3. मॉर्निंग सिकनेस :- यूं तो हर महिला को गर्भावस्था के दौरान morning sicknesses होते हैं और ये होना आम बात भी है मगर माना जाता है की यदि गर्भ में लड़का है तो आपको ये समस्या थोडी ज्यादा हो सकती है ।

4. Mood swings :- अब ये भी प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली आम समस्या है मगर पहली तिमाही में अगर किसी को Mood swings ज्यादा होते हैं तो इसका मतलब है की उनके गर्भ में पलने वाला बच्चा लड़का है ।

5. खाने की इच्छा :- प्रेग्नेंसी के दौरान ज्यादातर महिलाओं को खट्टा खाने का मन करता है लेकिन खट्टे के अलावा भी आपको पहली तिमाही के दौरान food cravings अधिक होती है तो ये Garbh में Ladka होने का संकेत होता है ।

दूसरी तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण

So friends अभी हमने आपको पहली तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण बताए, अब इस भाग में आपको dusri timahi mein ek ladka hone ke lakshan बताए जा रहे हैं ।

क्योकि देखने में आता है की दूसरी तिमाही यानी second trimester में महिलाओं के प्रेग्नेंसी के लक्षणों में थोड़ा परिवर्तन आ जाता है ।

इसलिए आपको पता होना चाहिये की दूसरी तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण ( dusri timahi mein ek ladka hone ke lakshan) क्या हैॆ

वैसे तो दूसरी तिमाही में यदि किसी औरत के गर्भ मेॆ लडका है तो उसके कई सारे लक्षण होते हैं लेकिन यहां हम सबसे मुख्य लक्षणों के बारे में बता रहे हैं जोकि कुछ इस प्रकार हैं :-

1. सर दर्द से जुड़ी दिक्कते होना :- अगर किसी गर्भवती के लड़का होता है तो उसकी दूसरी तिमाही में
सिर दर्द से रीलेटेड काफी परेशानियां होती हैैं ।

2. पेशाब के रंग में बदलाव :- यदि आप पुरी pregnancy भरपूर मात्रा में पानी पी रही हैं लेकिन इसके बावजूद भी आपके पेशाब का कलर पीला है तो इससे गर्भ में लड़का होने के लक्षण मिलते हैं ।

3. सोने के तरीके में परिवर्तन :- जिन महिलाओं को गर्भावस्था के दौरान बाई तरफ करवट लेकर सोना पसंद है तो उनके लिए कहा जाता है की उनके लड़का होने के चांस ज्यादा रहते हैं ।

4. पेट में दर्द होना :- खैर इस हालत में पेट में दर्द तो सभी महिलाओं के होता है लेकिन माना जाता है की जिन महिलाओं के पेट के ऊपरी हिस्से में दर्द रहता है उनके कोख में लड़का होता है ।

5. पेट के शेप में चेंज आना :- कुछ लोगो का सवाल होता है की अगर गर्भ में लड़का है तो पेट का आकार कैसा होना चाहिये ? तो जिन महिलाओं की कोख में Baby boy होता है उनका पेट के नीचे की साइड का हिस्सा निकला हुआ या ऊभरा हुआ सा लगता है ।

इसे भी पढ़े :> 

1. ब्रेस्ट बढ़ाने की 8 बेस्ट आयुर्वेदिक दवा Stan badhane ki dawa

2. 7 दिन में बच्चा गिराने की 10 असरकारी दवाएं

गर्भ में लड़का या लड़की :- garbh me putra ya putri in hindi

pregnancy baby boy or girl symptoms in hindi :- सभी लोग गर्भ में लड़का है या लड़की है इसे जानने के इच्छुक रहते हैं । इसलिए अक्सर नए मेरिड कपल्स पूछते हुए मिलते है की गर्भ में Ladka या लड़की होने के क्या symptoms होते हैं ?

गर्भ में पुत्री है या पुत्र कैसे पता लगाए या गर्भ में शिशु के Ling का कैसे पता चलेगा ? तो वैसे गर्भ में Baby boy है या Baby girl है इसको जाँचने के सौकड़ो उपाय है और आप मेडिकली भी इस चीज की जाँच करवा सकते हैं ।

लेकिन मेडिकली इन चीचों की जाँच करना पुरी तरह से गैरकानूनी है और आपको सजा भी हो सकती है इसलिए आपको लिंग पता करने के लिए देशी तरीकों का अनुसरण करना चाहिये

जो महिलाएँ पहली बार माँ बनती है वो अक्सर इस सवाल को लेकर जिज्ञासु रहती हैं की उनके लड़का होगा या लड़की अगर आप भी इस दुविधा में है तो इसको पता करने का एक देसी तरीका भी होता है ।

माना जाता है की पेट का आकार देख कर हम महिला की कोख में लडका है या लड़की बता सकते हैं गाँव देहातों या शहरों में भी कुछ अनुभवी बुजुर्ग महिलाएं Pregnent women का पेट देख कर शिशु का जेंडर बता देती हैं ।.

तो उन्ही अनुभवों महिलाओं का मानना होता है की अगर किसी प्रेग्नेंट स्त्री के पेट का निचला हिस्सा Foola और उभरा हुआ हो तो ये लड़का होने का लक्षण है ।

वही इसके विपरीत अगर महिला के गर्भ में लड़की है तो उसकी सुदंरता बढ़ जाती है उसके चेहरे पर अलग ही चमत होती है और उसकी हथैली वगहरा भी सोफ्ट हो जाती हैं ।

तो इससे आप समझ गये होगे की गर्भ में लड़का या लड़की ( garbh me putra ya putri ) है ।

तो दोस्तों अभी हम कुछ और उपाय, तरीकों, लक्षणों के बारे में जानते हैं जिससे पुरी तरह कन्फर्म हो जाए की गर्भ में लडका है या लड़की है फिर आपको दोबारा पुछने की जरूरत नही पडेगी की गर्भ में लड़के की हलचल किस प्रकार होती है ।

गर्भ में लड़का होने के लक्षण – garbh me ladka hone ki nishani

So friends यहाँ हम गर्भ में लड़का होने के लक्षण के बारे में बता रहे हैं जो कुछ इस प्रकार हैं :-

1. गर्भ में लड़के का पता करने का एक प्रचलित तरीका है की गर्भवती महिला सुबह उठकर अपने यूरिन को लेकर उसमें baking soda की थोडी मात्रा को मिक्स करे यदि पेशाब से झाग उठते हैं तो इसका मतलब है की आपके लड़का होगा ।

2. कुछ अनुभवी महिलाएं अपने experience के आधार पर बताती है की जब उनके गर्भ में पल रहा बच्चा लड़का था तब उन्हे सामान्यता से ज्यादा खाना खाने की इच्छा ( Food craving ) होती थी और उन्हे mood swings भी ज्यादा होते थे । ये लक्षण लड़की के गर्भ में होने पर इतने तीव्र नही थे ।

वही गर्भ में लड़को ने देर से भी हलचल शुरू की लड़ियों की अपेक्षा में ।

3. garbh me ladka hone ki nishani एक और है की जब कोख में लड़का होता है तो पेट का निचला हिससा थोडा ऊभरा हुआ और बहार निकला हुआ लगता है । इससे भी महिलाएं Garbh me ladka होने का अंदेशा लगाती हैं ।

4. इन सब के अतिरिक्त यूरिन का कलर भी garbh me ladka hone ki nishani हो सकता है क्योकि लडका होने पर Urine का रंग थोडा Dark yellow हो जाता है ।

5. एक मान्यता और प्रचालित है की अगर किसी महिला को लड़की होने वाली हो तो उसकी सुदंरता बढ़ जाती है और उसकी हथेलिया भी कोमल हो जाती है ।

गर्भ में बेटी होने के लक्षण – garbh mein beti hone ke lakshan

दोस्तों अभी तक हमने आपको गर्भ में लड़का होने के लक्षण बताए लेकिन जैसा की आप भी जानते है की सभी को लड़का होने की तमन्ना नही होती कुछ लोग ये भी चहाते हैं की उनकी Baby girl हो ।

तो इसलिए यहाँ हम garbh mein beti hone ke lakshan बता रहे हैं जो कुछ इस प्रकार हैं :-

1. प्रेग्नेंसी के समय आपके चेहरे का Glow बढ़ जाएगा और आपका चेहरा भी खिला – खिला लगेगा ।

2. पहली तिमाही ( first trimester ) morning sickness नही होगी और अगर होगी भी तो बहुत कम

3. पेट नीचे की और झुका हुअा या बच्चा लटका हुआ सा महसूस होगा ।

4. आपको बार – बार नमकीन चीजें खाने की इच्छा होगी ।

5. अगर एक मिनट तक शीशे में लगतार खुदको देखने के बाद आपको अपनी आँखो की पुतली फैली हुई महसूस हो तो ये भी गर्भ में बेटी होने के लक्षण है ।

6. यदि आपके बच्चे की हार्टबीट 60 सेंकड में 140 beat से कम है तो वो लड़की है ।

7. दायां ब्रेस्ट ( Left breast ) बांये स्तन की तुलना में ज्यादा भारी और बडा हुआ महसूस होगा ।

तो दोस्तों ये थे कुछ गर्भ में बेटी होने के लक्षण – garbh mein Ladki hone ke lakshan

आइये अब जानते हैं प्रेगनेंसी टेस्ट में लड़का और लड़की होने के संकेत ( pregnancy test boy or girl in hindi )

प्रेगनेंसी टेस्ट में लड़का होने के संकेत

So दोस्तों यहाँ हम आपको बताते हैं की pregnancy test boy or girl in hindi या प्रेगनेंसी टेस्ट में लड़का होने के संकेत क्या है और प्रेंग्नेंसी टेस्ट से शिशु का लिंग कैसे पता करें ?

आमतौर पर बच्चे का लिंग पता करने के लिए ultrasound की सहायता ली जाती है मगर दोस्तों ये भी 100% करगर तरीका नही है ।

लेकिन कुछ इसे उपाय और संकेत है जिससे आपको अनुमान लग सकता है की गर्भ में लड़का है या लड़की ?

1. त्वचा का रंग : – Skin problems और प्रेग्नेंसी के समय त्वचा में थोड़ा बहुत बदलाव बिल्कुल सामान्य है लेकिन ऐसा माना जाता है की जिन महिलाओं के गर्भ में लड़का होता है उनको थोडी ज्यादा स्किन प्रोब्लेम्स होती है और चेहरे की रौनक फीकी पड जाती है

2. ब्रेस्ट का आकार :- गर्भावस्था के दौरान शरीर में कई प्रकार के हार्मोनल बदलाव होते हैं जिसके कारण उनके शरीर में भी कई बदलाव देखने को मिलते हैं ।

इन्ही हार्मोनल बदलावों के कारण स्त्री के स्तन का आकार बढ़ जाता है जिससे वो बच्चे को दूध पिलाने को तैयार हो सके ।

3. पेट आकार तथा प्रकार :- जिस महिला का पेट नीचे की ओर झुका रहता है Pregnancy में तो ऐसा माना जाता है की उसके पेट में पल रहा बच्चा लड़की है

4. हाथ पैरों का ठंडा पडना :- हाथ पैरो का ठंडा रूखा होना और ठंडा पडना गर्भ में लड़के की और संकेत करता है ।

इसे भी पढ़े :>

1. ब्रेस्ट टाइट करने की बेस्ट क्रीम 

2. सबसे असरकारी रूका हुआ पीरियड लाने की 10 दवाएं और उपाय

प्रेगनेंसी में लड़के की हार्ट बीट कितनी होनी चाहिए – pregnancy mein ladki ki heartbeat kitni honi chahie

So दोस्तों जब हम आपको गर्भ में लड़का होने के संकेत और लक्षण बता ही रहे हैं तो आपको ये भी जानना जरूरी है की प्रेगनेंसी में लड़के की हार्ट बीट कितनी होनी चाहिए ?

दरअसल इस सम्बन्ध मे भी लोगो के काफी सवाल रहते हैं की प्रेगनेंसी में लड़की की हार्ट बीट कितनी होनी चाहिए, गर्भ में लड़का होने पर उसकी हार्ट बीट कितनी होनी चाहिये वगहरा – वगहरा

खैर ये 100% दावे से नही कहा जा सकता की अगर किसी शिशु की हार्ट बीट एक मिनट में इतनी बार हो तो वो लड़का या लड़की होती है ?

मगर फिर भी अंदाजे पर कहा जाता है की अगर 32 हफ्ते की प्रेग्नेंट महिला की हृदय गति 140 बीपीएम
है तो उसके गर्भ में लड़की है वही महिला के भ्रूण की हार्ट बीट 140 बीपीएम से कम है तो उसके लड़का होने की संभावना अधिक होती है ।

जुड़वा बच्चे लड़का लड़का होने के लक्षण – baby boy symptoms in hindi

अभी तक आपने जाना की अगर गर्भ में लड़का है तो उसके क्या लक्षण होते हैं या गर्भ में लड़की होने के क्या लक्षण है ?

लेकिन यहाँ हम आपको बता रहे है जुड़वा बच्चे होने के लक्षण ( symptoms of twins in hindi ) क्या है, जुठवा बच्चे गर्भ में होने पर क्या संकेत दिखते हैं, जुठवा बच्चे होने के संकेत,

1.वजन ज्यादा होता है :- जिस महिला के गर्भ में जुठवा बच्चा होता है उसका Weight नॉर्मल Pregnant महिला की तुलना में ज्यादा होता है ।

एक सामान्य गर्भवती महिला का वेट 25 pound होता है मगर जिन स्त्रीयों को जुठवा Babies होते हैं उनका वेट 30 से 35 pound तक पहुच जाता है ।

2. दो धड़कनों का एहसास :- खैर गर्भ में जुठवा बच्चे होने पर उनकी धड़कनो को अलग अलग सुनना बहुत मुश्किल है लेकिन गर्भावस्था के 9 हफ्तों के बाद से dopler प्रणाली के द्वारा उनकी धडकन सुनी जा सकती है ।

3. चेहरे की चमक गायब होना :- ये तो अभी तक हम आपको कई बार बता चुकै है की गर्भ में लड़क होने पर चेहरे की निखार फीका पड जाता है So अगर जुठवा बच्चों में से एक लड़का है या दोनो लड़के है तौ आपको अपने Glow में थोडा अंतर दिखेगा

4. अत्यधिक भूख लगना :- ये तो आप जानते ही है की प्रेग्नेंसी के दोरान महिलाओं की भूख बढ़ जाती है लेकिन ये भूख जुठवा बच्चे होने पर और भी बढ़ जाती है क्योकि उन्हे पोषक तत्वोंं ( Nutritions ) की अवाश्यकत पडती है

चौथे महीने में गर्भ में लड़का होने के लक्षण – 4 mahine ke bad ladka hone ke lakshan

तो प्यारे दोस्तों यहाँ हम आपको बताने वाले है की 4 महीने के बाद लड़का होने के लक्षण क्या है ? चौथे महीने के बाद कौनसे लक्षण है जिससे गर्भ में लड़के का पता चलता है, ladka hone ke lakshan after 4 month क्या – क्या होते हैं ?

जैसा की आप लोग भी जानते है की 4 महीने से महिलाओं की दूसरी तिमाही ( second trimester ) लग जाती है इस समय महिलाओं को प्रेग्नेंसी के दौरान होने वाली समस्या में राहत मिल जाती है और गर्भ में लड़का या लड़की हचलल भी शुरू कर देते हैं ।

चोथे महीने में महिलाओं को उन लक्षणों से आराम मिल जाता है जिनसे वो अभी तक जूझ रही थी । जैसे – जी मचलाना और उल्टी मतली होना इनसे आराम मिल जाता है ।

खैर इस स्टेज में भी आपको अपनी सेहत का बखूबी ख्याल रखना चाहिये । क्योकि चौथा महीना पहली तिमाही का अंत और दूसरी तिमाही की शुरूआत होती है इसलिए इस दौरान कई ऐसे लक्षण होते है जिससे आप पता कर सके की आपकी साथी की कोख में लड़का है या लड़की

आपको पुत्र प्राप्ती होगी या पुत्री की प्राप्ती ये आप कुछ लक्षणों के द्वारा तय कर सकते हैं । तो आइये जानते हैं 4 महीने के बाद लड़का होने के लक्षण – ladka hone ke lakshan after 4 month

1. ज्यादा उर्जावान महसूस होगा :- दरअसल पहली तिमाही के दौरान महिलाओं को कई प्रकार की समस्याओं से जूझना पडता है जैसे – उल्टी होना, जी मचलाना चक्कर आना जिसके चलते महिलाए को Low energy feel होती है लेकिन चौथे महीने से ये Problems खत्म हो जाती है और स्त्रीयां दोबारा खुद को एनर्जेटिक महसूस करती है ।

2. सीने में जलन :- प्रेग्नेंसी में हार्मोनल बदलाव के कारण कुछ समस्याए होने लगती है जिसमें सीने में चलन भी शामिल है ।

3. अपचन :- आपने कई बार देखा होगा की प्रेग्नेंट लेडी को कई बार पाचन से जुडी समस्याओं का सामना करना पडता है ऐसा कई बार हार्मोनल चेंज या गलत लाइफस्टाइल के चलते हो जाता है कई महिलाओं को अपचन की भी शिकायत होती है ।

4. भूख का तेज होना :- इस समय शीशु का विकास तेज होने लगता है जिससे की शरीर में न्यूट्रीशन की माग बढ़ जाती है जिसकी वजह से महिलाओं को जल्दी जल्दी भूख लगने लगती है ।

7 महीने में गर्भावस्था में लड़के के लक्षण – 7 month pregnancy baby boy symptoms in hindi

अब दोस्तों फाइनली जानते हैं की 7 महीने गर्भावस्था बच्चा लड़का लक्षण ( 7 month pregnancy baby boy symptoms in hindi )

क्योकि कई लोगो का सवाल होता है की सातवे महीने में लड़का होने के क्या लक्षण होते हैं ? सातवे महीने में कैसे पता करें की गर्भ में लड़का है या लड़की ?

सातवा महीने तीसरी तिमाही की शुरूआत होती है और इस स्टेज में आपके गर्भ का बच्चा भी काफी हद तक विकसित हो चुका होता है ।

इस दोरान भी आपके काफी शारीरिक बदलाव होतै हैं जिनमें से कुछ आपको अच्छे तो कुछ Problematic हो लगते हैं । यदि आप बेवी बॉय की कामना रखती है तो इन लक्षणों को ध्यान मे रखें –

1. इस समय रक्त संचार ( blood flow ) तेज हो जाता है जिससे सूजन उत्पन्न हो सकती है जोकि पुरी तरह सामान्य है

2. साँस लेने में हल्की फुल्की दिक्कत का सामना करना पड सकता है

3. प्रेग्नेंसी की शुरूआत से अब तक लगतार पेट का साइज बढ़ता है जिससे चलने फिरने और झुकने में थोडी दिक्कत होती है ।

4. गर्भाश्य के ऊपर की ओर ऊभरने से आपको सोने में दिक्त हो सकती है ।

5. इस दोरान महिलाओं का वेट गेन ( Weight gan ) भी होता है इस समय तक Normaly किसी Pregnant स्त्री का शारीरिक भार 5 किलो तक बढ़ सकता है और पेट बहार निकलने के कारण आपको उस पर खिचाव के निशान भी दिख सकते हैं ।

6. हो सकता है की प्रेग्नेंसी के सातवे महीने में uterus नाभी के ऊपर आ जाए इससे आपको Breathing me problem हो सकती है ।

लड़का कैसे होता है – ladka kaise hota hai

आपके मन भी कभी ना कभी ये जानने की इच्छा जरूर हुई होगी की वो क्या फैक्टर है जिससे किसी महिला के पेट में लडके या लड़की का विकास होता है

विज्ञान के अनुसार कब किसी महिला के Baby girl या Baby boy होता है ?

तो दोस्तों अगर हम वैज्ञानिक रूप से देेखे तो जब किसी स्त्री के x chromosomes किसी पुरूष के Y  chromosomes से मिलते हैं तब लड़का होता है वही अगर दोनो के x chromosomes होने पर पुत्री की प्राप्ती होती है ।

तो अब आपको पता चल गया होगा की लड़का कैसे होता है एक बात और महिला सिर्फ x chromosomes दे सकती है जबकि पुरूष के पास x, y दौनो chromosomes होते हैं ।

नौवें महीने में बेबी बॉय के लक्षण – 9 month pregnancy baby boy symptoms in hindi

तो दोस्तों जैसा की आप जानते हैं की नोवा महीना प्रेग्नेंसी का लास्ट महीना होता है इसलिए इस महीने के लक्षण काफी महत्वपूर्ण व सटीक होते हैं ।

9 महीने की गर्भावस्था होने पर आपको निम्नलिखित लक्षण महसूस होगे :-

1. बाल बेजान और ऑयली से फील होगे
2. मूड में जल्दी जल्दी परिवर्तन होना
3. पेट के आस – पास चर्बी का जमाव अधिक होने लगता है
4. मीठा खाने का मन करता है
5. अगर मॉर्निंग सिकनेस ज्यादा हो तो लड़की होने की संभावना रहती है ।

निष्कर्ष

तो हमारे प्यारे दोस्तें इस लेख में हमने आपको विस्तारपूर्वक बताया की गर्भ में लड़के की हलचल किस प्रकार होती है और पहली तिमाही में एक लड़का होने के लक्षण क्या क्या है ?

So अगर अभी भी आपका कोई सवाल है तो हमें कमेंट के माध्यम से जरूर पुछें । लेख को अंत तक ध्यानपूर्वक पढ़ने के लिए धन्यवाद

Leave a Comment