मुंह खोलने की दवा पतंजलि : सबसे असरदार आयुर्वेदिक दवा और घरेलू उपाय muh kholne ki dawa Patanjali

मुंह खोलने की दवा पतंजलि – यदि आप बहुत अधिक या हर वक्त गुटखा या पान मसाला चबाने के आदि हैं तो सावधान हो जाइए क्योंकि इससे आपको अल्सर जैसी घातक बीमारियां तो होती ही हैं, साथ ही मुँह न खुलने या बहुत कम मुँह खुलने जैसी समस्या का सामना करना पड़ सकता है।

आप में से बहुत लोग ऐसे भी होंगे जो पहले ही इस समस्या का सामना कर रहे होंगे तो यह आर्टिकल उन लोगों के लिए ही हैं जिसमे हम बात करने वाले हैं मुंह खोलने की दवा पतंजलि (muh kholne ki dawa patanjali in hindi). बाकि जो लोग अभी अभी पान मसाला, गुटखा, इत्यादि का सेवन करते हैं तो बंद कर दें या फिर कम कर दें।

मुंह खोलने की दवा पतंजलि

दरअसल, गुटखा इत्यादि में मौजूद निकोटिन, कैफीन, और अन्य रसायन मुंह के ऊतकों को नुकसान पहुंचा सकते हैं। इससे मुंह के अंदर की मांसपेशियां और ऊतक सख्त हो जाते हैं, जिससे मुंह खुलने में परेशानी होती है।

इस इस स्थिति को ओरल सबम्यूकोस फाइब्रोसिस (Oral Submucous Fibrosis) कहा जाता है और यह समय के साथ बढ़ती रहती है। हालंकि आपको परेशान होने की जरूरत नहीं है क्योंकि हम बता रहे हैं मुंह खोलने के लिए कौन सी दवा सबसे अच्छी है? तो चलिए शुरू करते हैं।

मुंह खोलने की दवा आयुर्वेदिक दवा पतंजलि का नाम

पान गुटखा इत्यादि के अत्यधिक सेवन से ओरल सबम्यूकोस फाइब्रोसिस (OSMF) की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है जो मुंह के कैंसर का कारण भी बन सकती है। यदि आपके मुंह में सूजन, दर्द, या छाले हो रहे हैं तो ये अच्छे संकेत नहीं हैं, और आपको डॉक्टर की सलाह के साथ ही नीचे बताई जा रही मुँह खोलने की पतंजलि की दवा का सेवन करना चाहिए।

चूंकि नीचे बताई गई सभी दवाएं आयुर्वेदिक तौर पर तैयार की गई हैं तो आप इन्हे सुरक्षित मान सकते हैं लेकिन हम सलाह देंगे कि बिना डॉक्टर के कंसल्टेशन के दवा के उपयोग से बचें।

डेंटल ट्रीटमेंट किट पतंजलि है सबसे असरदार मुँह खोलने की समस्या का उपाय

मुंह खोलने की दवा पतंजलि आयुर्वेद ओरल हेल्थ किट के नाम से मार्किट में उपलब्ध है जिसमे मुंह न खुलना या कम खुलने की समस्या का पूर्ण समाधान बताया गया है। यह किट मुंह के विभिन्न प्रकार के रोगों के लिए है, जिसमें मुंह खुलने की समस्या भी शामिल है।

इस किट में आपको निम्नलिखित उत्पाद मिलते हैं जो आपको निर्देश पर्ची के आधार पर या डॉक्टर की सलाह पर इस्तेमाल करने हैं –

  • डेंटल टूथपेस्ट (Dental Toothpaste)
  • डेंटल फ्लोस (Dental Floss)
  • माउथवॉश (Mouthwash)
  • डेंटल टूथब्रश (Dental Toothbrush)
  • डेंटल फ्लोराइड टूथपेस्ट (Dental Fluoride Toothpaste)

इसके साथ ही आपको मुँह खोलने की क्रीम (Mouth Opening Cream) भी मिलती है जो मुंह के अंदर की मांसपेशियों और ऊतकों को ढीला करने में मदद करती है जिससे मुंह खोलने में आसानी होती है।

सामान्य तौर पर इस किट का इस्तेमाल दिन में दो बार किया जाता है जिससे आपके पूरे मुँह का स्वास्थ्य बेहतर हो जाता है लेकिन कब और कितनी बार इसका इस्तेमाल करना है, इसके लिए चिकित्स्क की सलाह लेंगे तो बेहतर है।

इसे भी पढ़ें – [10 बेस्ट] मुंह के छाले की टेबलेट, अंग्रेजी और आयुर्वेदिक क्रीम

खदिरादि वटी है मुंह खोलने की दवा पतंजलि – Muh kholne ki dawa patanjali

खदिरादि वटी मुंह खोलने की आयुर्वेदिक दवा है जिसमे खदिर, मरिच, लवंग, अदरक, हरड़, इत्यादि प्रभावशाली जड़ी बूटियां शामिल हैं। ये ऐसी जड़ी बूटियां हैं जो जो मुंह के छालों, सूजन, और दर्द को कम करने के साथ ही मुंह की मांसपेशियों को मजबूत करने का काम करती हैं और टाइट पेशियों को ढीला कर मुँह खोलने का काम भी करता है।

आपको पता होना चाहिए खदिरादि वटी टेबलेट के रूप में आती है जिसका उपयोग करने के लिए, दिन में दो बार 1-2 गोली चूसनी चाहिए। इस औषधि का उपयोग करने से पहले अपने दंत चिकित्सक से सलाह लेना उचित है। हालंकि खदिरादि वटी एक सुरक्षित और प्रभावी आयुर्वेदिक दवा है।

मुंह खोलने का आयुर्वेदिक दवा है पतंजलि मुलेठी क्वाथ

पतंजलि मुलेठी क्वाथ एक आयुर्वेदिक काढ़ा है जो मुंह के छालों, सूजन, और दर्द को कम करने में मदद करता है। यह मुंह के अंदर की मांसपेशियों और ऊतकों को भी मजबूत करने में मदद करता है जिससे मुंह खोलने में आसानी होती है। इसके इस्तेमाल संबंधी निर्देश डॉक्टर से प्राप्त करें, सामान्य तौर पर पतंजलि मुलेठी क्वाथ से मुँह खोलने के लिए, निम्नलिखित विधि का पालन करें:

  • एक कप पानी में 2 चम्मच पतंजलि मुलेठी क्वाथ मिलाएं।
  • अब इस मिश्रण को अच्छी तरह उबाल लें।
  • कुछ देर के लिए इसे ठंडा होने दें।
  • दिन में दो बार इस मिश्रण को दिन में तीन बार कुल्ला करें।
  • इस उपाय से मुंह के अंदर की सूजन और दर्द कम हो जाएगा। इससे मुंह खोलने में आसानी होगी।

मुलेठी क्वाथ में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो मुंह की सूजन को कम करने में मदद करते हैं, साथ ही यह मुंह के अंदर की मांसपेशियों और ऊतकों को भी मजबूत करने में मदद करता है।

इसे भी पढ़ें – पतंजलि फंगल इन्फेक्शन क्रीम : 7 Best फंगल इन्फेक्शन टेबलेट, दवा, ऑयल

मुंह बड़ा करने के उपाय घरेलु क्या हैं ? muh kholne ki dawa patanjali in hindi

दवाइयों के अलावा भी आप मुँह खोलने की समस्या को दूर करने के लिए कुछ घरेलू उपाय कर सकते हैं जो निम्नलिखित हैं: (ये ऐसे उपाय हैं जो आप सामान्य तौर

मुलेठी क्वाथ: मुलेठी में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण होते हैं जो मुंह की सूजन को कम करने में मदद करते हैं। यह मुंह के अंदर की मांसपेशियों और ऊतकों को भी मजबूत करने में मदद करता है। मुलेठी क्वाथ का उपयोग करने के लिए, एक कप गर्म पानी में एक चम्मच मुलेठी क्वाथ मिलाएं और दिन में दो बार कुल्ला करें।

हल्दी: हल्दी में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो मुंह की सूजन और दर्द को कम करने में मदद करते हैं। हल्दी का उपयोग करने के लिए, एक चम्मच हल्दी पाउडर को एक गिलास दूध में मिलाएं और गर्म करें। इस मिश्रण को दिन में दो बार पिएं।

अदरक: अदरक में एंटी-इंफ्लेमेटरी और एंटी-ऑक्सीडेंट गुण होते हैं जो मुंह की सूजन और दर्द को कम करने में मदद करते हैं। अदरक का उपयोग करने के लिए, एक चम्मच कद्दूकस किया हुआ अदरक को एक गिलास पानी में मिलाएं और गर्म करें। इस मिश्रण को दिन में दो बार कुल्ला करें।

गर्म पानी से कुल्ला: गर्म पानी से कुल्ला करने से मुंह की सूजन और दर्द को कम करने में मदद मिल सकती है। दिन में दो या तीन बार गर्म पानी से कुल्ला करें।

मुँह खोलने के लिए व्यायाम

मुँह के व्यायाम करने से मुंह की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद मिल सकती है जिससे मुंह के जबड़ो को सामान्य ऊंचाई मिलती है। कुछ सामान्य मुँह के व्यायाम निम्नलिखित हैं:

  • अपने होंठों को गोल करके मुस्कुराएं।
  • इसी क्रम में अपने होंठों को एक दूसरे से चिपका कर रखें।
  • अब अपने जीभ को बाहर निकालें और फिर अंदर लें।
  • इसके साथ ही अपने दांतों को एक-दूसरे से दबाएं।

आप इन क्रियाओं को रोजाना सुबह और शाम कर सकते हैं क्योंकि इससे आपकी मांशपेशियों को जबरदस्त फायदा मिलता है। आपको इसके लिए किसी प्रकार की चिकित्सकीय राय लेने की आवश्यकता नहीं है, आप यह कभी भी कर सकते हैं।

निष्कर्ष

दोस्तों, मुँह न खुलने की समस्या बहुत आम लगती है और अधिकतर लोग इसे गंभीरता से नहीं लेते हैं। लेकिन लंबे समय तक इससे अनजान रहना नुकसानदायक हो सकता है और कैंसर जैसी गंभीर बीमारी को बुलावा दे सकता है। इसलिए सबसे पहले जरुरी है कि आप पान मसाला गुटखा जैसी हानिकारक पदार्थों से दूर रहें।

दूसरा समय रहते यहाँ बताए गए मुंह खोलने की दवा पतंजलि का सेवन करें और डॉक्टर्स की उचित राय लें। आपको जब भी मुँह में सूजन, छाले और मुँह खोलने में दर्द का अनुभव हो तो इन लक्षणों को नजरअंदाज न करें और शीघ्र ही ट्रीटमेंट करें। उम्मीद है आपको यह जानकारी अच्छी लगी होगी और आपको इससे फायदा होगा।

आपके काम की – गोरा रंग काला क्यों हो जाता है ? ये है 10 सबसे बडी वजह

Leave a Comment