कुरान में हिंदुओं के लिए क्या लिखा है ? जाने पुरी हकीकत : कुरान में क्या लिखा है

कुरान में हिंदुओं के लिए क्या लिखा है :– आपने अक्सर India में मिडिया पर कुछ पत्रकारों को मुसलमानों या इस्लाम के खिलाफ जहर उगलते जरूर देखा होगा, हद तो ये है की हमारे अपने देश जो दुनिया का सबसे बडा लोकतांत्रिक और सेकुलर / धर्मनिर्पेक्ष देश है वहां भी कुछ पॉलिटिकल पार्टीस और संगढन पुरी तरह से मुसलमानों के खिलाफ काम कर रहे हैं ।

खैर ये केवल हिंदुस्तान का ही आलम नही है बल्कि कमोवेश पुरी दुनिया और खासकर की पश्चिमी देशों का यही भी हाल है,

वहां अक्सर मुस्लिमों को आतंकवाद और महिलाओं के अधिकारों के लिए बदनाम किया जाता है । ऐसे में जो आम जानता है उसके मन में कुरान, इस्लाम और मुसलमानों को लेकर कई तरह के सवाल उत्पन्न होते हैं

अब क्योकि मुस्लिमों की सबसे बडी धार्मिक किताब कुरान है तो लोग इस्लाम को जानने के लिए इसका ही रूख करते हैं और जो लोग पुरा कुरान नही पढ़ते वो अक्सर इंटरनेट पर इससे रीलेटेड चीजें सर्च करते रहते हैं

Example के लिए हमारे देश में अधिकतर लोग सर्च करते हैं की कुरान में हिंदुओं के लिए क्या लिखा है ( quran me hinduo ke liye kya likha hai ) ?

इसके अलावा अभी कर्नाटक में हिजाब को लेकर विवाद हुआ था इसके अलावा कुछ लोग बुर्खे के कारण भी इस्लाम में महिलाओं के अधिकारों को लेकर सवाल उठाते हैं, जिसके कारण कुछ लोग बिना कुछ सोचे ही बोल देते हैं की महिलाओं के लिए नर्क है इस्लाम, कुरान में नारी ( Quran me nari ) की क्या स्थिति है, कुरान में लिखी गलत बातें, वगहरा – वगहरा

ऐसे में फिर लोगों के मन में ये भी सवाल आता है की कुरान में महिलाओं के लिए क्या लिखा है ( quran me mahilao ke liye kya likha hai )

तो दोस्तों अगर आपके मन में भी इसी तरह के सवाल घूम रहे हैं तो लास्ट तक इस लेख पर बने रहिये क्योकि यहां हम आपको बताने वाले हैं की कुरान में गैर मुस्लिमों के लिए क्या लिखा है या कुरान में काफिरों के बारे में क्या लिखा,

इसके अलावा कुरान मानवता और महिलाओं के अधिकारों के बारे में क्या कहता है उस पर भी खुल कर चर्चा होगी तो आजका ये आर्टिकल काफी नॉलेजवल होने वाला है और हो सकता है की ये थोडा लंबा भी हो तो अगर आप फ्री नही है तो इसको बुकमार्क कर सकते हैं ताकि आपको इसे बाद में सर्च करने में दिक्कत ना हो ।

तो आइये शुरू करें और जानते हैं की कुरान में हिंदुओं के लिए क्या लिखा है लेकिन उससे पहले जान लेते हैं की कुरान है क्या ?

कुरान क्या है – What is quran in hindi

कुरान इस्लाम का सबसे बडा धार्मिक ग्रंथ है जिसमें मुसलमानों और पुरी इंसानियत के लिए सच्चाई की रहा बताई गई है । कुरान में बताया गया है की मुसलमानों को किस तरह जीवन व्यतित करना चाहिये और गैर मुस्लिमों से कैसा व्यवहार करना चाहिये

तो आइये अब जाने कुरान में सनातन धर्म के लिए क्या लिखा है,

Read more :> नात शरीफ लिखा हुआ हिंदी में 2023 (अर्थ सहित) naat sharif lyrics in hindi

कुरान में हिंदुओं के लिए क्या लिखा है – quran me hinduo ke liye kya likha hai

कुरान में हिंदुओं के लिए क्या लिखा है
कुरान में हिंदुओं के लिए क्या लिखा है

भारत में रहने वाले अधिकतर नॉन – मुस्लिमों के मन में विचार होता है की कुरान में सनातन धर्म के लिए क्या लिखा है तो आपको साफ – साफ शब्दों में बता दू की कुरान में हिंदुओं के लिए कुछ नही लिखा,

जी हां, दोस्तों कुरान में हिंदू या सनातन धर्म जैसे किसी भी शब्द का कोई उल्लेख नही है, लेकिन हां, कुरान में काफिर, मूर्तिपूजक और नॉन – वीलिवर जैसे शब्दों का उल्लेख जरूर देखने को मिलता है और कहीं – कही ईसाईयों और याहूदियों का भी जिक्र है ।

तो हम इस Point Of view से कुरान को देख सकते हैं क्योकि अमूमन हिंदू भी मूर्ति पुजा ही करते हैं इस लिहाज से हम जान सकते हैं की कुरान हिंदुओं के लिए क्या लिखा है – quran me hinduo ke liye kya likha hai ?

दोस्तों कुरान में काफी सारी ऐसी आयते हैं जिसे कुछ लोग कुरान की खूनी आयतें ( Quran ki khuni ayat ) कहते हैं क्योकि उसमें हिंसा का जिक्र है –

Example के लिए अगर आप कुरान में सूरह अत-तौबा के श्लोक नंबर 14 को पढ़ेगे तो उसमें लिखा है :-

“उन से लड़ो ( गैर – मुस्लिमों से ); अल्लाह उन्हें तुम्हारे हाथों से सज़ा देगा और उन्हें अपमानित करेगा और तुम्हें उन पर विजय दिलाएगा और ईमानवाले के दिलों को संतुष्ट करेगा”

अब जो इसको बिना संदर्भ ( Context ) के पढ़ेगा उसको लगेगा की इस्लाम, गैर – मुस्लिमों के प्रति हिंसा को प्रचारित कर रहा है लेकिन वहीं अगर इसे संदर्भ के साथ पढ़ेगे तो आपको पता चलेगा की कुरान उन लोगों से लडने के लिए कह रहा है जिन लोगों ने संधि की और फिर अपनी बात से पलट गए

दरअसल प्रोफेट मोहम्मद ने मक्का के मुसलमानों से हिजरत के बाद कई बार संधियां की थी उस दौरान मक्का के गैर – मुस्लिमों ने संधि तोट दी और मुस्लिमों पर आक्रमण कर दिटा जिसके बाद प्रोफेट मोहम्मद और उनके साथियों ( मुसलमानों ) ने मक्का के गैर – मुस्लिमों से जंग लडी और जीती भी ।

अब जिसको प्रोफेट मोहम्मद की जिंदगीं और इस्लामिक इतिहास की समझ नही होगी तो वो कुरान को बिना संदर्भ के पढ़ेगा और उसको लगेगा की कुरान हिंसा को प्रोमोट करता है

जबकि कुरान केवल बचाव में ही युध्द की अनुमति देता है इसके लिए आप सूरह अल बकराह के श्लोक नंबर 190 से 193 को पढ़ सकते हैं जहां बार – बार उल्लेख किया गया है की आप तब तक किसी गैर मुस्लिम पर आक्रमण या युध्द नही कर सकते जब तक उसने आप पर हमला नही किया हो यानि आत्म – रक्षा या Self – defence में ही युध्द की अनुमती है ।

इसके अतिरिक्त आप युध्द में भी बुढ़ो और बच्चों पर आक्रमण नही कर सकते, वही पुरानी दुश्मनी को भी लेकर युध्द नही किया जा सकता,

अगर आप ज्यादा जानना चहाते हैं की कुरान गैर मुस्लिमों, युध्द और शांति को लेकर क्या कहता है तो यहां से पढ़ सकते हैं ।

So I hope आपको पता चल गया होगा की कुरान में हिंदुओं के लिए क्या लिखा है – quran me hinduo ke liye kya likha hai ?

आइये अब जानते हैं की कुरान में औरतों के लिए क्या लिखा है,

इसको भी पढ़ें :> Pet dard ki dua: पेट दर्द चुटकियों में दूर करने की ताकतवर दुआ और वजीफा

कुरान में महिलाओं के लिए क्या लिखा है – quran me mahilao ke liye kya likha hai

पश्चिम देशों में अक्सर लोग महिलाओं के अधिकारों को लेकर इस्लाम की अलोचना करते हैं खासकर की जब से तालिबान ने महिलाओं के शिक्षा प्राप्त करने को लेकर प्रतिबंध लगाया है ।

लेकिन वहीं आप कुरान में देखे तो एक जगह आया है की
“महिलाएं प्राकृतिकी की सबसे कोमल रचनाओं में से एक है, इनसे भारी सामान न उठवाओ और महिलाओं की हिफाजत करो”

अब जो किताब महिलाओं को भारी वजन उठवाने तक के खिलाफ है तो वहां महिलाओं पर जुल्म और बंदिशों की गुंजाइश ही कहा रहती है ।

इसके अलावा प्रोफेट मोहम्मद ने अरब के अंदर महिलाओं के अधिकारों के लिए तब आवाज उठाई जब पुरे अरब में लडकियों को जिंदा दफनाने की प्रथा प्रचलित थी इसके अलावा भारतीय प्रायदीप में सती प्रथा, यूरोप में विच – हंटिग के नाम पर महिलाओ की हत्या और चीन में फूट बाइंडिंग ( foot binding ) के नाम पर महिलाओं के पैर तोट दिये जाते उस समय मोहम्मद सहाब ने महिलाओ के जीने के अधिकार ( Right to live ) की वकालत और महिलाओं को इस्लाम के अंदर भी अधिकार दिलाए ।

अगर आप हदीसों और कुरान की आयतों को पढ़ेगे तो आपको समझ आएगा की इस्लाम में औरत का क्या दर्जा है ।

कुरान किसने लिखा है – quran kisne likha hai

इस्लाम धर्म के अनुयायियों का मानना है की कुरान इश्वर के सच्चे वजन हैं जोकि आयतों ( श्लोक ) के रूप में प्रोफेट मोहम्मद पर नाज़िल हुए ।

बहरहाल प्रोफेट के बाद इन आयतों के मुखिक रूप में सदियों तक सेफ रखा गया जिसके बाद उस्मान इब्न अफ्फान ( Uthman ibn Affan ) ने इन्हे संकलित किया ।

Read also :> fatiha ka tariqa : फातिहा लगाने का सुन्नी और इस्लामी तरीका in hindi and urdu, fatiha ka tarika,

निष्कर्ष

तो प्यारे दोस्तों यहां हमने आपको विस्तार पूर्वक बताया की कुरान में हिंदुओं के लिए क्या लिखा है साथ ही इस्लाम धर्म में महिलाओं के क्या अधिकार हैं उस पर भी चर्चा की, यदि आपको हमारे लेख पसंद आते हैं तो इसी तरह के लेख आगे भी पढ़ते रहने के लिए हमारे टेलिग्राम ग्रुप को जरूर जॉइन करें ।

Leave a Comment