सबसे असरदार तेजी से Yaddasht badhane ki ayurvedic dawa

शोसल मिडिया पर शेयर करें

आज के डिजिटल युग नें ना केवल हमारी शारीरिक मेहनत को कम किया है बल्कि हमारी मानसिक मेहनत को भी जीरो कर दिया है । जिसका परिणाम ये हुआ है की शरीरिक दुर्बलता के साथ ही लोग मानसिक रूप से भी कमजोर हो गए है । जिसका सबसे अच्छा उदाहरण हमारी कमजोर यादश्त है ।

दरअसल पहले टेक्नॉलोजी इतनी एडवांस नही थी । हमें लोगो के नम्बर और नामों को खुदसे याद करना होता था और हिसाब-किताब को भी बिना कैल्कूलेटर के खुदसे करना होता है जिससे दिमाग की कसरत हो जाती थी और याददाश्त ( Memory ) भी तेज रहती थी लेकिन आज ये सब काम हमारे मोबाइल फोन कर रहे है जिससे दिमाग एंव याददाश्त को काम करना का मौका ही नही मिलता जिसके कारण स्मरण शक्ति कमजोर हो जाती है और हम छोटी-छोटी चीजों को भी भूलने लगते हैं ।

फिर इसके बाद लोग पूछते हैं की यादादश्त कैसे बढ़ाए, या Yaddasht badhane ki ayurvedic dawa कौनसी है या Yaddasht badhane ki dawa को कहाँ से लें

आज इस आर्टिकल में हम इसी विषय पर गहराई से बात करेगे यहाँ आपको याददाश्त बढ़ाने की दवा के साथ याददाश्त बढ़ाने के उपाय भी बताए जाएगे जिससे आपकी याददाश्त कई गुना बढ़ जाएगी ।

लेकिन इससे पहले जान लेते हैं की याददाश्त बढ़ाना क्यो जरूरी है-

यादादश्त बढ़ाना क्यो जरूरी है

याददाश्त और एकाग्रता केवल नतीजों को निकालें और जरूरी कामों को करने के लिए ही जरूरी नही है बल्कि ये आपके जिदंगी के हर पहलू पर असर डालती है । कल्पना करिये की कुछ समय के लिए आपकी याददाश्त बिल्कुल चली जाए, तो क्या आप वही व्यक्ति बने रहेगे जो आप पहले थे ?

नही ! एक तरह से आपका पूरा वाजूद ही खत्म हो जाएगा क्योकि आप अपने घर, परिवार, रिश्तेदार, काम और यहाँ तक की खुद को भी भूल जाएगे यानी हमारी मजबूत याददाश्त ही हमें दुनिया और रिश्तेदारों से जोडे रखती है ।

इसी तरह पढ़ाई लिखाई में भी याददाश्त का अहम रोल होता है । कुछ लोग कहते हैं की हमें रटने के बजाय चीजों को समझने पर ध्यान देना चाहिए मगर आप खुद ही बताईये की जिसे बैसिक्स ही याद ना हो तो वो एडवांस चीजों को कैसे सीख सकता है ।

For example अगर हम किसी बच्चे को सिखाएं की 2 प्लस 2 चार होता है मगर उसे ये ही ना पता हो 2 या चार क्या होता है तो क्या वो कभी समझ पाएगा की जोड-घटाना सीख पाएगा? बिल्कुल नही ! यानी पढ़ाई-लिखाई में भी यादादश्त एक अहम रोल निभाती है । जो स्टूडेंट अक्सर पूछते रहते हैं की पढ़ा हुआ कैसे याद रखें ? वो बैसिक्स को याद रखने में नाकामयाब रहते हैं ।

यादादश्त कैसे बढ़ाए / Yaddasht badhane ki dawa

 

Yaddasht badhane ki ayurvedic dawa
Yaddasht badhane ki ayurvedic dawa

 

तो दोस्तों ! यहाँ हम आपको yaddasht badhane ki ayurvedic dawa की बारे में बता रहा हैं जिससे आप अपनी यादादश्त बिना साइड इफेक्ट या नुकसान के बढ़ा पाएगे

Cureveda हर्बल ब्रेन बूस्ट : Yaddasht badhane ki dawa

यह दवा यादादश्त बढ़ाने की टेबलेट है जो पुरी तरह आयुर्वेदिक और हर्बल प्राडक्ट है इसमें किसी भी तरह के कृत्रिम कलर, और कैमिल का इस्तेमाल नही किया गया है । इसमें मौजूद प्राकृतित तत्व दिमाग को शक्ति देते हैं जिससे, फोकस, दिमाग की clarity और आलर्टनेस भी बढ़ता है ।

यह यादादश्त बढ़ाने की बहुत ही कारगर दवा है जिसका 3 महीनों तक सेवन करने से कई गुना याददाश्त बढ़ जाती है साथ में एकाग्रता भी बढ़ती है ।

यह यादादश्त बढ़ाने की सबसे बेस्ट दवाओं में से एक है । यदि आपकी यादश्त कमजोर है और आप जल्द से जल्द अपनी मैमोरी को बढ़ाना चहाते हैं तो एक बार इस दवा को इस्तेमाल कर के जरूर देखे । हमें उम्मीद है की आप निराश नही होगे

अगर आप इस दवा के Amazon पर रीव्यू देखेगे तो आपको पता चलेगा की ये दवा कितनी कारगर है

आप इस दवा के एक टेबलेट को सुबह के नाश्ते के बाद ले सकते हैं मगर इस दवा को कभी खाली पेट ना लें ।

आपको ये दवा क्यो खरीदनी चाहिए:~

* तेजी से यादादश्त बढ़ाने में मदद करती है

* 100 प्रतिशत हर्बल और शाकाहारी प्रोडक्ट है

* एकाग्रता को बढ़ाने में फायदेमंद है

* एक भरोसेमंद ब्रांड का प्रोडक्ट है

* साइड इफेक्ट मुक्त है

मेडलाइफ एसेंशियल मेमोस्ट्रॉन्ग : yaddasht ki dawa

मेडलाइफ एसेंशियल मेमोस्ट्रॉन्ग टैबलेट को 8 आयुर्वदिक औषधियों के द्वारा जैसे- ब्रह्मी, तुलसी, अश्वगंधा, शाखपुष्पी, ज्योतिषमती, Mandukaparni और यष्टिमधु को मिलाकर बनाया जाता है जो यादादश्त तो बढ़ाते हैं साथ में पुरे दिमाग के स्वास्थ्य को फायदा पहुचाते हैं ।

क्योकि ये दवा पुरी तरह आयुर्वेदिक औषधियों से बनाई जाती है इसलिए इसको इस्तेमाल करने पर कोई Side effects भी नही होते, इस दवा को जितने भी लोगे ने इस्तेमाल किया है सभी ने इसके फायदे ही बताए हैं । आप खुद अमेज़ोन पर जाकर चेक कर सकते हैं इस दवा को 5 मे से 5 स्टार रेटिंग मिली हुई है ।

सबसे अच्छी बात ये दवा सस्ती भी है अगर आप इसे मार्केट से खरीदेगे तो यह आपको 500 रूपे की पडेगी लेकिन अगर आप इसे नीचे दिए गए लाल लिंक पर क्लिक कर के खरीदेगे तो आपको ये दवा 299 रूपय का पडेगी ।

आपको ये दव क्यो खरीदनी चाहिए:~

* मानसिक तनाव को कम करती है

* अल्पकालिक और दीर्षकालिक यादाश्त को बढ़ाती है
* एकाग्रता बढ़ाने में भी लाभदायक है

* सीखने की योग्यता बढ़ाती है

* नर्वस सिस्टम को अच्छा करती है

बैद्दनाथ शंखपुष्पी सिरप

बैद्यनाथ शंखपुष्पी सिरप ( Baidyanath Shankh Pushpi Syrup ) यादादश्त बढ़ाने का सिरप है जिसके यादादश्त बढ़ाने के अलावा भी अनेको फायदे हैं । दूसरी दवाओं की तरह यह दवा भी 100 प्रतिशत आयुर्वेदिक और साइड इफेक्ट मुक्त है ।

इस दवा को केवल शंखपुष्पी और ब्रह्मी से बनाया गया है जोकि आयुर्वेद की दुनिया में यादादश्त बढ़ाने के लिए जानी जाती हैं । इस दवा से आपकी यादादस्त तेजी से बढ़ागी और नर्वस सिस्टम भी स्वस्थ रहेगा क्योकि ये एक नर्वाइन टॉनिक भी है । इसके अलावा भी बैद्यनाथ शंखपुष्पी सिरप के अनेकों फायदे होते हैं

आपको ये दवा क्यो खरीदनी चाहिए:~

* अनिद्रा से छुटकारा दिलाने में लाभकारी:~ कुछ लोग कितनी भी कोशिश कर लें मगर उन्हे नींद ही नही आती जिसके कारण उनकी यादादश्त और एकाग्रता कमजोर हो जाती है मगर इस सिरप के इस्तेमाल आरामदायक और गहरी नींद आती है ।

* डिप्रेशन में भी फायदेमंद:~ तनाव या डिप्रेशन इंसान को मानसिक रूप से बिल्कुल बर्वाद कर देता है और इसी के कारण कई बार यादादश्त कमजोर हो जाती है । ऐसी हालत में बैद्यनाथ शंखपुष्पी सिरप लेने से काफी फायदा होता है क्योकि इससे तनाव कम होता है और यादाश्त भी बढ़ती है ।

* चिंता और ज्यादा सोचने की आदत भी कम होती है

* चीजों को समझने की शक्ति बढ़ती है ।

मेडलाइफ एसेंशियल ब्राह्मी टैबलेट

ब्राह्मी यादादश्त बढ़ाने के लिए किसी जादुई बुटी से कम नही है । आयुर्वेद में ब्राह्मी का इस्तेमाल ब्रैन टॉनिक के रूप में होता है जो दिमाग को ताकत देकर उसकी क्षमताओं को निखारने का काम करता है ।

मेडलाइफ एसेंशियल ब्राह्मी टैबलेट भी इसी जादुई औषधि से बनी हैं जिसमें प्राकृतिक ब्राह्मी के ही गुण मौजूद हैं । इसके अलावा मेडलाइफ एसेंशियल ब्राह्मी टैबलेट के बहुत सारे दिमागी फायदे हैं ।

आपके ये दवा क्यो खरीदनी चाहिए:~

* यह दवा सीखने की अक्षमताओं को दूर करती ह

* दिमाग को शांत रखती है और तनाव के लक्षण कम करती है

* कई प्रकार की दिमागी बिमारीयों में भी काम आती है

* बढ़ती उम्र के लक्षणों को कम करती है

जीवा मेमोरिका सिरप

जीवा मेमोरिका सिरप ( Jiva Memorica Syrup ) को शंकपुष्पी, ब्राम्ही और बचा के अनुठे मिक्चर से बनाया गया है । इन खास आयुर्वेदिक औषधियों के मिश्रण से यादादश्त और एकाग्रता कई गुना बढ़ जती है इसके अलावा इस सिरप में कुशमंद का यूज किया गया है जो दिमाग की कोशिकाओं को पोषित करता है । इसके साथ ही इस दवा में धनिये का इस्तेमाल भी किया किय गया जिससे आंतो का स्वस्थ भी बेहतर होता जिसके कारण आपका शरीर इस सिरप में मोजूद पोषत तत्वों को अवशोषित कर पाता है ।

आपको ये दवा क्यो खरीदनी चाहिए:~

* फोकस करने की क्षमतो को विकसित करती है

* नीद को अच्छा करती है ।

* नई चीजों को सीखने और समझने की क्षमता को बढ़ाती है

* याद करने की काबिलियत को बढ़ाती है ।

श्री-श्री तत्व मेध्या रसायण

श्री श्री तत्त्व मेध्या रसायण एक आयुर्वेदिक सीरप है जिसे 8 औषधियो जैसे:- ब्राह्मी, शंख पुष्पी, वचन, गुडुची, जटामांसी, यष्टिमधु, शतावरी और अश्वगंधा को मिला कर बनाया गया है जो कुछ ही समय में यादादश्त को कई गुना बढ़ा देती हैं ।

यदि कम समय में अपनी यादादश्त में बडा बदलाव लाना चहाते हैं तो ये सिरप आपके लिए सबसे बेस्ट रहेगी ।

आपको ये दवा क्यो खरीदनी चाहिए:~

* मानसिक तनाव को खत्म करती है

* शारीरिक तनाव को भी कम करती है

* anxiety से ऊबरने में मदद करती है

* नीद को बेहतर बनाती है

* चीजों को लम्बे समय तक याद रखने की क्षमता को बढ़ाती है

यादादश्त बढ़ाने के उपाय

यदि आप उपर बताई गई दवाईयों का सेवन करते हैं तो आपकी अपनी यादादश्त में काफी फर्क दिखेगा लेकिन अगर आप इन दवाईयों के अलावा कुछ दूसरे तरीकों को भी अपनाते हैं तो आपकी यादादश्त दोगुनी तेजी से बढ़ाएेगी । आप यहाँ दिए गए उपाय के द्वारा अपनी स्मरण शक्ति ( Memory power ) में सुधार कर सकते हैं ।

अच्छी डाइट लिजिए:~ एक अच्छी डाइट दिमाग को स्वस्थ रखती है और उसकी क्षमताओं को विकसित करती है और यदादश्त को भी बढ़ाती है । इसलिए आपनी डाइट पोष्टिक रखिये

एकाग्रता बढ़ाने के व्यायाम करे:~ अच्छी यादादश्त के लिए जरूरी है की आपकी एकाग्रता करने की क्षमता बेहतर हो क्योकि जब आप किसी चीज पर अच्छे से फोकस करते हैं तभी वो आपकी शॉर्ट टर्म मेमोरी में जाती है जिसके बाद वो लांग टर्म मेमोरी में जाती है

मेडिटेशन करें:~ प्रतिदिन मेडिटेशन करने से फोकस बढ़ता है जिससे यादादश्त तेज होती है इसलिए आपको कम से कम प्रतिदिन 10 मिनट मेडिटेशन जरूर करना चाहिए

योग करें:~ योगा मेडिटेशन और शारीरिक व्यायाम का एक अनुठा मिलन है जो दिमाग की तरफ खून और ऑक्सीजन का संचार बढ़ाता है इससे दिमाग तथा शरीर स्वस्थ रहता है एंव यादादश्त पर भी सकारात्मक असर पडता है ।

पूरा नींद लें:~ नींद और यादादश्त में बहुत गहरा सम्बन्ध है जब आप सही तरीके से नींद नही लेते तो इससे एकाग्रता में कमी आ जाती है जिसके कारण चीजों को याद रखना मुश्किल हो जाता है ।

याद करने के तरीके को पहचानें:~ जब चीजों को याद करने की बात आती है तो हम सब एक जैसे नही होते है क्योकि हर किसी का याद करने का तरीका अलग-अलग होता है जैसे कुछ ज्यादा विज्युअल होते हैं इसलिए वो चीजों को देख कर अच्छी तरह याद कर पाते हैं जबकि कुछ सुन कर या खुद कर ते किसी चीच को अच्छे से याद कर पाते हैं तो आपको भी अपने याद करने के तरीकों को पहचानना है ताकि आप आसानी से और लम्बे समय तक चीजों को याद रख पाएं

निष्कर्ष

तो हमारे प्यारे दोस्तों इस आर्टिकल में हमने आपको  Yaddasht badhane ki ayurvedic dawa के बारे में विस्तार से बताया और ये भी बताया की यादादश्त कैसे बढ़ाए ? यदि आपके मन में अभी भी कोई शंका या सवाल है तो हमें कमेंट के माध्यम से जरूर बताएं और इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें आपका एक शेयर हमें इसी तरह लिखने के लिए प्रेरित करेगा ।


शोसल मिडिया पर शेयर करें